सोमवार, 15 अगस्त 2016

स्वतंत्रता

स्वतंत्रता एक ऐसी अदम्य प्यास है, जो हर किसी को होती है लेकिन स्वतंत्रता को संभालने के लिए जो परिपक्वता चाहिए, वह बहुत कम लोगों के पास होती है। स्वतंत्रता को तीन वर्गों में बाँटा जा सकता है- नकारात्मक स्वतंत्रता, सकारात्मक स्वतंत्रता और विशुद्ध स्वतंत्रता:

नकारात्मक स्वतंत्रता है किसी चीज से मुक्ति पाना। कोई अवांछित घटना, वस्तु या व्यक्ति से मुक्ति पाने को स्वतंत्र होना कहा जाता है। अधिकतर स्वतंत्रता के लिए लड़ने वाले इसी प्रकार की स्वतंत्रता चाहते हैं। जीवन इतना दुखद है कि दुख से मुक्ति पाना व्यक्ति का अहम प्रयास होता है। राजनैतिक स्वतंत्रता इसी श्रेणी की है : बंधन से मुक्ति, दासता से मुक्ति। इसके लिए जो भी क्रांतियाँ की जाती हैं, वे जीतकर भी असफल होती हैं। क्योंकि दासता से मुक्ति हो गई, सत्ता आ गई, अब सत्ता पाने के बाद आगे क्या? सृजन की कोई समझ या प्रतिभा ऐसे लोगों के पास नहीं होती। स्वतंत्रता को संभालना तलवार की धार पर चलने जैसा होता है। जोखिम से भरा और उतना ही जीवन से लबालब।

दूसरी स्वतंत्रता है सकारात्मक। जैसे कोई इंसान चित्रकार बनना चाहता हो या कवि बनना चाहता हो और उसे अपने परिवार से संघर्ष करना पड़ता है, तकि उसे अपना शौक पूरा करने का अवसर मिले। तो यह सकारात्मक स्वतंत्रता है। इस व्यक्ति में बहुत-सी सृजनात्मक ऊर्जा है। उसे लड़ने में इतना रस नहीं है जितना कुछ निर्माण करने में है।

तीसरी स्वतंत्रता है विशुद्ध स्वतंत्रता या कहें आध्यात्मिक स्वतंत्रता। भारत की समूची प्रतिभा सदियों-सदियों से इसमें संलग्न थी। व्यक्तिगत मुक्ति ही ऋषियों का लक्ष्य था। यह किसी अप्रिय परिस्थिति से छुटकारा नहीं है बल्कि अपनी जन्मजात स्थिति को पाना है। भारत के सभी दर्शन और आध्यात्मिक प्रणालियाँ अत्यंतिक आत्मिक स्वतंत्रता की अभीप्सा से प्रेरित हैं।

स्व-तंत्र बड़ा ही खूबसूरत शब्द है। जिसने स्व का तंत्र पाया, वह है स्वतंत्र। क्या है स्व का तंत्र? तंत्र है तकनीक या ऐसी कुंजी जो आंतरिक संपदा का द्वार खोले। यह कुंजी कहीं बनी बनाई नहीं मिलती, यह हर एक को अपनी-अपनी गढ़नी पड़ती है। यह रेडीमेड नहीं है, कस्टम मेड है। जिसे यह तंत्र मिल गया, वह जिंदगी के तमाम बंधनों के बीच रहकर आजाद रहता है। वह मानो कीचड़ में रहते हुए खिलने का राज कमल से सीख लेता है। ऐसा निर्भय, निर्गुण, निरामय व्यक्ति है स्वतंत्र।

 ओशो
यह परमात्मा है जो तुम्हारे पास लाखों ढंगों से आता है।
जब कोई स्त्री तुमको देख कर मुस्कुराती है तब याद रखो, यह परमात्मा है जो एक स्त्री के रूप में मुस्कुरा रहा है।

जब कोई पुष्प अपनी पंखुड़ियां खोलता है, देखो, निरीक्षण करो—परमात्मा ने अपना हृदय एक पुष्प के रूप में खोल दिया है। जब कोई पक्षी गीत गाना आरंभ करे, उसको सुनो—परमात्मा तुम्हारे लिए गीत गाने के लिए आया है।

यह सारा जीवन दिव्य है, पवित्र है। तुम सदैव पवित्र भूमि पर हो। जहां कहीं भी तुम देखते हो, यह परमात्मा है। जिसको तुम देखते हो, जो कुछ भी तुम करते हो, यह परमात्मा के लिए करते हो। तुम जो कुछ भी हो तुम परमात्मा के लिए भेंट हो। मेरा अभिप्राय यही है, जीवन को जीयो, जीवन का आनंद लो, क्योंकि यही परमात्मा है। और वह तुम्हारे पास आता है और तुम उसका आनंद नहीं ले रहे हो। वह तुम्हारे पास आता है और तुम उसका स्वागत नहीं कर रहे हो। वह आता है और उसको तुम उदास, अकेले, अरुचि से भरे हुए और मंदमति के रूप में मिलते हो।

नाचो, क्योंकि हर क्षण वह अनंत ढंगों से, लाखों रास्तों से, हर दिशा से आ रहा है। जब मैं कहता हूं जीवन को परिपूर्णता में जीयो, तो मेरा अभिप्राय है, जीवन को इस भांति जीयो जैसे कि यह परमात्मा है। और इसमें प्रत्येक बात समाहित है। जब मैं कहता हूं जीवन, तो सभी कुछ समाया हुआ है इसके भीतर। काम सम्मिलित है, प्रेम सम्मिलित है, क्रोध सम्मिलित है, सब कुछ समा गया है। कायर मत बनो। बहादुर बनो और जीवन को इसकी परिपूर्णता में, इसकी पूरी सघनता में स्वीकार कर लो।

 पतंजलि योगसूत्र - ओशो ⁠

रविवार, 25 अगस्त 2013


The mind will always create problems. But what is essential is that when we make mistakes, when we are in pain, to meet these mistakes, these pains, without judgment, to look at them without condemnation, to live with them and to let them go by. And that can only happen when the mind is in the state of noncondemnation, without any formula; which means, when the mind is essentially quiet, when the mind is fundamentally still; then only is there the comprehension of the problem..........J. KRISHANAMURTI

रायपुर में ओशो ध्यान शिविर

Photo

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह का साक्षात्कार 2 साल पूरे होने पर

रमन उठ, घर चल, छत्तीसगढ़ पढ़ !

प्रकाशन :13-12-2010  (करीब तीन साल पहले लिखा गया ये लेख मुझे आज भी प्रासंगिक लगता है।)
संजय शर्मा
(मुख्यमंत्री के दूसरे कार्यकाल के दो वर्ष पूरे होने पर विशेष)
त्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने अपने दूसरे कार्यकाल के दो वर्ष पूरे कर लिए हैं। इस तरह सात सालों का लंबा कार्यकाल उन्होंने पूरा कर लिया है। इस मौक़े पर मुझे लगता है कि उनके जब तीन साल बाक़ी हैं और तीसरी पारी की तैयारी का समय हो चला है तब डॉ. रमन और उनकी पार्टी को इन सात सालों की तटस्थतापूर्वक समीक्षा करने की ज़रूरत है। और सबसे ज़्यादा तो निंदकों को सुनने की ज़रूरत है।
छत्तीसगढ़ राज्य बना तो हम सब छत्तीसगढिय़ा बेहद उत्साहित थे। उस समय मै जिस अख़बार में काम करता था उसमें छत्तीसगढ़ को लेकर काफ़ी चीज़ें हम लिखते थे। हर तरफ़ उत्साह दिख रहा था। किसी वरिष्ठ नेता की जगह अपेक्षाकृत नए आदमी को मुख्यमंत्री बनाए जाने को लेकर तरह-तरह की बातें होती थीं लेकिन लोग छत्तीसगढ़ी में धारा प्रवाह बोलते मुख्यमंत्री को देखकर सब भूल से गए थे।
अपना राज है इसका अहसास आज भी तब होता है जब लोग मुख्यमंत्री को छत्तीसगढ़ी में बोलते देखते हैं। डॉ रमन पर बात से पहले कुछ पीछे याद कर लिया जाए ऐसा मुझे लगता है इससे आगे की बात थोड़ी आसान हो जाती है।
अगर मै अपनी बात करूं तो मेरा उत्साह बहुत जल्दी ही भंग हो गया था। पत्रकार होने के नाते नई सरकार के कामकाज पर रिपोर्टिंग करनी ही पड़ जाती थी और कुछ ही महीने में राजनीति का वह चेहरा दिखने लगा जिससे मुझे डर लगने लगा था। ये सोचकर बहुत परेशान था मै कि नए राज्य को हम किस दिशा में लेकर जा रहे हैं। अगर शुरूआत ही गलत हुई तो भविष्य कैसा होगा ? हमारा सामाजिक सद्भाव में डूबा छत्तीसगढ़ कौन सी राह पकड़ेगा? राजनीति के अखाड़े में जब मै देखता कि दाहिना हाथ बाएं हाथ पर शक़ कर रहा है और उसे उखाड़ फेंकने को तैयार है तो कोफ्त भी होती थी। राजनीति ने उस समय सामाजिक संघर्ष की नींव डालने का काम शुरू कर दिया था और तभी सरकार बदल गई। जनता जान चुकी थी सत्ता की बागडोर तुरंत सही हाथों में देने की ज़रूरत है।
यहाँ पर डॉ रमन सिंह पर्दे पर आए। लोग इस बार भी संशय में दिख रहे थे कि डॉ रमन सिंह क्या उस कीचड़ को धो पोछ पाएंगे जो हमारे आंगन में पहले के लोग फैला गए थे और मै एक ही दिन बाद आश्वस्त था। आज सात सालों में रमन सिंह ने लंबा रास्ता तय किया है और इस तरह तय किया है कि सामाजिक समरसता को बिगाड़कर राजनीति करने वाले कहाँ गिरे पता ही नहीं चल रहा।
राज बनने के समय यहाँ के ग़रीबों और किसानों की स्थिति में तत्काल कुछ सुधार दिखने की उम्मीद थी लेकिन वह पूरी नहीं हुई थी। डॉ. रमन के आते ही असर दिखने लगा। मध्यप्रदेश के ज़माने में मै सालों तक धान की ख़रीदी में दलालों और कोचियों की भूमिका और किसानों के शोषण पर लगातार स्टोरी करता रहता था। डॉ रमन की सरकार ने पूरा धान खरीदने की घोषणा की । उस दिन सचमुच मुझे बहुत खुशी हुई थी। मै यहाँ आँकड़े लेकर इस सरकार के काम की समीक्षा नहीं कर रहा पर इस यात्रा में जो दो तीन महत्वपूर्ण बातें करनी चाहिए लगता है उसकी चर्चा कर रहा हूँ।  गाँव ग़रीब और किसान का नारा रमन सिंह ने दिया था। एक और विषय पीडीएस का था जिस पर भी मै सालों तक नज़र जमाए हुए था और उसमें मची लूटमार की ख़बरें मै अक्सर देता था। जब चुनाव के पहले गरीबों को 2 और 3रूपए में चावल देने की घोषणा हुई तो चिंता बढ़ी पर पीडीएस के डकैतों को मुख्यमंत्री ने चेतावनी दे देकर हद में रखा हालांकि डकैती अभी पूरी तरह बंद नहीं हो पाई है। कई और काम उन्होंने किए जिससे जनता की राह आसान हुई है पर मै उन्हें गिनाने नहीं जा रहा। इसके लिए सरकार का अपना जनसंपर्क विभाग है। जनता का जीवन स्तर भी इन सालों में सुधरा और दूसरी बार चुनाव हो गए। शुरूआती दौर के अपने शासकों से डर चुकी जनता ने दोबारा रमन सिंह को ही पसंद किया।
पर मुझे लगता है डॉ रमन सिंह को चुनावी तैयारी में जुटने से पहले उपलब्धियाँ नहीं जो कमियाँ रह गईं हैं उन पर ध्यान देना चाहिए और यह ऐसी कमियाँ है जो छत्तीसगढिय़ा को उसकी अस्मिता बचाने नहीं दे रही। छत्तीसगढिय़ा आज ठगा हुआ सा खड़ा नज़र आ रहा है क्योंकि यहाँ उसकी कोई पूछ होती नज़र नहीं आ रही है। यह सही है कि मात्र विकास के पैमाने पर सरकार के काम से जनता संतुष्ट है पर वह छत्तीसगढिय़ा के रूप में जिस छत्तीसगढिय़ा पहचान को कायम करना चाहती है उसमें एक भी प्रभावी कदम बढ़ता नज़र नहीं आता। बल्कि छत्तीसगढिय़ा होना आज शासन के दरवाज़े पर कमी की तरह देखा जा रहा है और यह तब हो रहा है जब मुख्यमंत्री छत्तीसगढिय़ा है। मुख्यमंत्री की पार्टी में भी उनके अपने सहयोगी नेता इसे लेकर आवाज़ उठाते रहे हैं। किसी भी राज्य की पहचान मात्र विकास से की जा सकेगी यह सोचना गलत है। दुनियाँ में ऐसा कोई देश और राज्य नहीं मिलेगा जो अपनी पहचान को महत्व न देता हो पर अंग्रेजी दासता के चलते जिस तरह भारतीयता का दमन हुआ और अंग्रेजी आज भी हावी है उसी तरह छत्तीसगढिय़ा पहचान का भी दमन हो रहा है। पर यह नया राज्य है इस पर अभी से ध्यान दिया गया तो इसे रोका जा सकता है। यहाँ और विस्तार में न जाते हुए एक दो और बातें कहना ज़रूरी समझता हूं।
अपने पहले कार्यकाल में रमन सिंह ने जन हितैषी क़दम तो उठाए पर भ्रष्टाचार और अफ़सरशाही के चंगुल से जनता को छुटकारा दिलाने में असफल रहे। दोबारा सत्ता में आने पर उन्होंने कुछ इस अंदाज़ में बातें की कि लगा अब इस बार वे पूरी ताकत से अफ़सरशाही को कुचल देंगे और एक ज़िम्मेदार और समय पर काम करने वाला प्रशासन देंगे।
पिछले कार्यकाल में जनता ने पहला मौक़ा है समय दो सोचकर टाला पर दूसरा कार्यकाल भी अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है कि पहले से ज़्यादा बेहतर नहीं है। सरकारी दफ़्तरों में लूट खसोट मची हुई और अमन पसंद मुख्यमंत्री यह देख नहीं पा रहे। जनता का कोई काम समय पर नहीं हो रहा । अफ़सर अपनी पसंद की ही फ़ाइलें देखते हैं और जनता महीनों और सालों तक चक्कर लगा लगाकर थक रही है।  भ्रष्टाचार चरम पर है और खेद की बात है कि इसमें मंत्रालय सबसे आगे है जहाँ मुख्यमंत्री खुद बैठते हैं। सरकार में नियमों के ख़िलाफ़ अधिकारी काम कर रहे हैं पर कोई उनसे जवाब तलब करने वाला नहीं है। प्रमुख सचिव स्तर के भी अधिकारी नीचे से जो लिखकर आ जाए उसे वैसे का वैसा जाने देते हैं जब तक मामला उनकी रूचि का न हो। उनकी रूचि का मामला हो तो नियम की व्याख्या भी मनपसंद ढंग से हो रही है लेकिन आम जनता का मामला है तो ग़लत व्याख्या भी सचिव को नहीं दिख रही है। जिलों से लेकर मंत्रालय तक फ़ाइलें घूम रही हैं और इस सरकार में बैठे लोगों को नहीं पता कि ऐसा क्यों हो रहा है। हैरानी की बात है कि जिन फ़ाइलों को जिले में या संचालनालय स्तर पर ही निपटाया जा सकता है उन्हें भी मंत्रालय भेजा जाता है और मंत्रालय में बैठे लाखों रूपए महीने का बोझ जनता पर डाल रहे आई ए एस अफ़सर यह सवाल नहीं कर रहे कि संचालनालय को जो निपटाना चाहिए वह ऊपर क्यों भेजा जा रहा?
ज़ाहिर है सबको रिश्वत चाहिए और रमन सिंह के कार्यकाल की सारी उपलब्धियाँ यही मंत्रालय में बैठे अफ़सर हजम करने में लगे हैं। यह हम रोज़ मंत्रालय और दूसरे विभागों में घूमते हुए देखते सुनते हैं। प्रदेश के मुख्य सचिव से भी मैने जब कभी इसकी चर्चा की उन्होंने माना कि बिना जवाबदेही के काम हो रहा है पर वे भी कुछ कर पाने में असमर्थ नज़र आ रहे हैं। ऐसे में यह जिम्मेदारी मुख्यमंत्री की ही बनती है। उन्हें मंत्रालय का कॉडर ख़त्म करने के बारे में भी सोचना चाहिए क्योंकि इसी के कारण वहाँ बैठे कर्मचारी अधिकारी ख़ुद को मालिक समझते हैं और छत्तीसगढ़ की जनता को नौकर। अपने दूसरे कार्यकाल के दो वर्ष पूरे होने की पूर्व संध्या पर डॉ रमन सिंह ने कहा है कि अब प्रशासन में जवाबदेही लाने के लिए भी वे काम करेंगे। हमें उनकी बात पर भरोसा करना चाहिए और उम्मीद की जानी चाहिए कि अगले चुनाव के पहले जनता जिस तरह अभी विकास के मामले में अपने राज को महसूस कर रही है उसी तरह प्रशासन भी उसका अपना है इसका अहसास उसे होगा।
सरकार ने एक तरह से आधे राज्य में भय मुक्त शासन तो दे दिया है इसमें शक़ नहीं है लेकिन आदिवासी इलाकों में अभी भी सैकड़ों हज़ारों लोग बेघर जीवन जी रहे हैं। हजारों बच्चों की पढ़ाई चौपट दिख रही है। बंदूकों के साए में जी रहे आदिवासी पिस रहे हैं और इसका कोई ठोस समाधान नहीं निकल पा रहा है। नक्सली समस्या को लेकर रणनीतियाँ बन रही हैं पर बीजेपी में ही कई बड़े नेता मानते हैं कि सरकार को और कड़ा रूख अपनाने की ज़रूरत है।
रूख चाहे जो हो पर अपने हक से वंचित हो रहे लोगों को न्यायपूर्वक जीवन मिल सके इस दिशा में तो सरकार को और कोई रास्ता सोचना ही होगा। नक्सलवाद के समाप्त होने तक इंतज़ार नहीं किया जा सकता है। आदिवासी उपयोजना के नाम पर जो राशि दी जा रही है उसका सही उपयोग हो इस पर भी कड़ाई से नज़र रखी जाए क्योंकि राशि तो ख़ूब भेजी जा रही है पर उसका लाभ सही हकदार को मिल रहा है इसकी देखरेख कमज़ोर है।
डॉ. रमन सिंह को तीसरे कार्यकाल का सपना देखने के पहले यह ठीक से दिख जाए यही कामना है क्योंकि उन्हें दिखाई तो सब दे रहा है पर हम यह मानकर चलें कि ठीक से नहीं दिख पा रहा होगा। और यह भी सही है कि रमन सिंह निश्चिंत हो सकते हैं फ़िलहाल जनता को उनका विकल्प नहीं दिख रहा है। ऐसे में वे कुछ न भी देखें तो भी आज की तारीख़ में तो वे मज़बूत दिख रहे हैं लेकिन समय को कोई नहीं जानता।
डॉक्टर साहब की गाँव गरीब की चिंता के बावजूद अभी शासन उस रसोईए की तरह दिखता है जो शादी घर में खाना बनाने तो जाता है पर घरवालों से लगाव नहीं दिखाता। पैसा लो काम करो चलते बनो। छत्तीसगढिय़ा की पहचान इस प्रदेश में हो और शासन छत्तीसगढिय़ा के ज़्यादा क़रीब आए इसके लिए बहुत तेज़ी से बहुत काम करने की ज़रूरत होगी और इसमें डॉ रमन सिंह को कठोर क़दम भी उठाने होंगे। ऐसा करने पर हो सकता है आजू बाजू के कुछ लोग नाराज़ हो जाएं पर छत्तीसगढिय़ा उन्हें सर पर बिठाने को तैयार होगा। मुझे पहली की किताब की पंक्तियाँ याद आ रही हैं और मै उसे इस तरह याद कर रहा हूँ -  रमन उठ घर चल......छत्तीसगढ़ पढ़.....।

 
BOOK OF MIRDAD - किताब ए मीरदाद में प्रार्थना के संबंध में कही गई बातें सभी सत्य के खोजियों को पढ़नी चाहिए ऐसा लगता है.......
 
 
Photo: अध्याय ………. १३ ………. तेरह 
~~~~~~~~~~ प्रार्थना ~~~~~~~~~
मीरदाद: तुम व्यर्थ में प्रार्थना करते हो जब तुम अपने आप को छोड़ देवताओं को सम्बोधित करते हो। 
 क्योकि तुम्हारे अंदर है आकर्षित करने की शक्ति, जैसे दूर भगाने की की शक्ति तुम्हारे अंदर है। 
 और तुम्हारे अंदर हैं वे वस्तुएँ जिन्हें तुम आकर्षित करना चाहते हो, जैसे वे वस्तुएँ जिन्हें तुम दूर भगाना चाहते हो तुम्हारे अंदर हैं। 
 क्योंकि किसी वस्तु को लेने का सामर्थ्य रखना उसे देने का सामर्थ्य रखना भी है।
 जहां भूख है, वहां भोजन है। जहां भोजन है, वहां भूख भी अवश्य होगी। भूख की पीड़ा से व्यथित होना तृप्त होने का आनंद लेने का सामर्थ्य रखना है। 
 हाँ, आवश्यकता में ही आवश्यकता की पूर्ति है। 
 क्या चाबी ताले के प्रयोग का अधिकार नहीं देती? क्या ताला चाबी के प्रयोग का अधिकार नहीं देती ? क्या ताला और चाबी दोनॉ दरवाजे के प्रयोग का अधिकार नहीं देते ? 
जब भी तुम चाबी गँवा बैठो या उसे कहीं रखकर भूल जाओ, तो लोहार से आग्रह करने के लिये उतावले मत होओं। लोहार ने अपना काम कर दिया है, और अच्छी तरह से कर दिया है; उसे वही काम बार-बार करने के लिये मत कहो। तुम अपना काम करो और लोहार को अकेला छोड़ दो; क्योंकि जब एक बार वह तुमसे निपट चूका है, उसे और भी काम करने हैं। अपनी स्मृति में से दुर्गन्ध और कचरा निकाल फेंको, और चाबी तुम्हे निश्चय ही मिल जायेगी|
अकथ प्रभु ने उच्चारण द्वारा जब तुम्हे रचा तो तुम्हारे रूप में उसने अपनी ही रचना की। इस प्रकार तुम भी अकथ हो। 
 प्रभु ने तुम्हे अपना कोई अंश प्रदान नहीं किया--क्योंकि वह अंशों में नहीं बाँट सकता; उसने तो अपना समग्र, अविभाज्य, अकथ ईश्वरत्व ही तुम सबको प्रदान कर दिया। इससे बड़ी किस विरासत की कामना कर सकते हो तुम ? और तुम्हारी अपनी कायरता का अन्धेपन के सिवाय और कौन, या क्या, तुम्हे पाने से रोक सकता हैं ?
फिर भी, कुछ--अन्धे कृतध्न लोग--अपनी विरासत के लिये कृतज्ञं होने के बजाय, उसे प्राप्त करने की राह खोजने के बजाय, प्रभु एक प्रकार का कूडाघर बना देते हैं जिसने वे अपने दांत और पेट के दर्द, व्यापार में अपने घाटे, अपने झगडे, अपनी बदले की भावनाएं तथा अपनी निद्राहीन रातें ले जाकर फेंक सकें। 
 कुछ अन्य लोग प्रभु को अपना निजी कोष बना लेना चाहते हैं जहां से वे जब चाहें संसार की चमकदार निकम्मी वस्तुओं में से हर ऐसी वस्तु को पाने की आशा रखते हैं जिसके लिए वे तरस रहे हैं। 
 कुछ अन्य लोग प्रभु को एक प्रकार का निजी मुनीम बना लेना चाहते हैं, जोकेवल यह हिसाब ही न रखे कि वे किन चीजों के लिये दूसरों के कर्जदार हैं और किन चीजों के लिये उनके कर्जदार है, बल्कि उनके दिये कर्ज को वसूल भी करे और उनके उनके खाते में हमेशा एक बड़ी रकम जमा दिखाये। 
 हाँ, अनेक तथा नाना प्रकार के हैं वे काम जो मनुष्य प्रभु को सौंप देता है। फिर भी बहुत थोड़े लोग ऐसे होंगे जो सोचते हों कि यदि सचमुच इतने सारे काम करने की जिम्मेदारी प्रभु पर है तो वह अकेला ही उनको निपटा लेगा, और उसे यह आवश्यकता नहीं होगी कि कोई उसे प्रेरित करता रहे या अपने कामों की याद दिलाता रहे।
 क्या प्रभु को तुम उन घड़ियों की याद दिलाते हो जब सूर्य उदय होना है और जब चन्द्र को अस्त ?
क्या उसे तुम दूर के खेत में पड़े अनाज के उस दाने की याद दिलाते हो जिसमे जीवन फूट रहा है ? 
क्या उसे तुम उस मकडी की याद दिलाते हो जो रेशे से अपना कौशल-पूर्ण विश्राम-गृह बना रही है ? 
क्या उसे तुम घोंसले में पड़े गौरेया के छोटे-छोटे बच्चों की याद दिलाते हो ?
क्या तुम उसे उन अनगिनत वस्तुओं की याद दिलाते हो जिनसे यह असीम ब्रह्माण्ड भरा हुआ है ? 
तुम अपने तुच्छ व्यक्तित्व को अपनी समस्त अर्थहीन आवश्यकताओं सहित बार-बार उसकी स्मृति पर क्यों लादते हो ? क्या तुम उसकी दृष्टि में गौरेया, अनाज और मकड़ी की तुलना में कम कृपा के पात्र हो ? तुम उनकी तरह अपने उपहार स्वीकार क्यों नहीं करते और बिना शोर मचाये, बिना बिना घुटने टेके,बिना हाथ फैलाये और बिना चिंता-पूर्वक भविष्य में झाँके अपना-अपना काम क्यों नहीं करते ?
और प्रभु दूर कहाँ है कि उसके कानों तक अपनी सनकों और मिथ्याभिमानों को, अपनी स्तुतियों और अपनी फरियादों को पहुँचाने के लिये तुम्हे चिल्लाना पड़े ? क्या वह तुम्हारे अंदर और तुम्हारे चारों ओर नहीं है ? जितनी तुम्हारी जिव्हा तुम्हारे तालू के निकट है, क्या उसका कान तुम्हारे मुँह के उससे कहीं अधिक निकट नहीं है ?
प्रभु के लिये तो उसका ईश्वरत्व ही काफी है जिसका बीज उसने तुम्हारे अंदर रख दिया है। 
 यदि अपने ईश्वरत्व का बीज तुम्हे देकर तुम्हारे बजाय प्रभु को ही उसका ध्यान रखना होता तो तुममे क्या खूबी होती ? और जीवन में तुम्हारे करने के लिये क्या होता ? और यदि तुम्हारे करने को कुछ भी नहीं है, बल्कि प्रभु को ही तुम्हारी खातिर सब करना है, तो तुम्हारे जीवन का क्या महत्व है ? तुम्हारी सारी प्रार्थना से क्या लाभ है ?
अपनी अनगिनत चिंताएँ और आशाएँ प्रभु के पास मत ले जाओ। जिन दरवाजों की चाबियाँ उसने तुम्हे सौंप दी है, उन्हें तुम्हारी खातिर खोलने के लिये मिन्नतें मत करो। बल्कि अपने ह्रदय की विशालता में खोजो। क्योंकि ह्रदय की विशालता में मिलती है हर दरवाजे की चाबी। और ह्रदय की विशालता में मौजूद हैं वे सब चीजें जिनकी तुम्हे भूख और प्यास है, चाहे उनका सम्बन्ध बुराई से है या भलाई से। 
 तुम्हारे छोटे से छोटे आदेश का पालन करने को तैयार एक विशाल सेना तुम्हारे इशारे पर काम करने के लिये तैनात कर दी गयी है। यदि वह अच्छी तरह से सज्जित हो, उसे कुशलतापूर्वक शिक्षण दिया गया हो और निडरता पूर्वक उसका संचालन किया गया हो, तो उसके लिये कुछ भी करना असम्भव नहीं, और कोई भी बाधा उसे अपनी मंजिल पर पहुँचने से रोक नहीं सकती। और यदि वह पूरी तरह सज्जित न हो, उसे उचित शिक्षण न दिया गया हो और उसका सञ्चालन साहसहीन हो, तो वह दिशाहीन भटकती रहती है, या छोटी से छोटी बाधा के सामने मोरचा छोड़ देती है, और उसके पीछे-पीछे चली आती है शर्मनाक पराजय। 
 वह सेना और कोई नहीं, सधुओ, इस समय तुम्हारी रगों में चुपचाप चक्कर लगा रही सूक्ष्म लाल कणिकाएँ हैं; उनमे से हरएक शक्ति का चमत्कार, हरएक तुम्हारे समूचे जीवन का और समस्त जीवन का--उनकी अन्तरतम सूक्ष्मताओं सहित--पूरा और सच्चा विवरण। 
 ह्रदय में एकत्रित होती है यह सेना; ह्रदय में से ही बाहर निकलकर यह मोरचा लगाती है। इसी कारण ह्रदय को इतनी ख्याति और इतना सम्मान प्राप्त है। तुम्हारे सुख और दुःख के आँसू इसी में से फूटकर बाहर निकलते हैं। तुम्हारे जीवन और मृत्यु के भय दौड़कर इसी के अन्दर घुसते हैं। 
 तुम्हारी लालसाएँ और कामनाएँ इस सेना के उपकरण हैं तुम्हारी बुद्धि इसे अनुशासन में रखती है। तुम्हारा संकल्प इससे कवायद करवाता है और इसकी बागडोर संभालता है ।
जब तुम अपने रक्त को एक प्रमुख कामना से सज्जित कर लो जो सब कामनाओं को चुप कर देती है और उन पर छा जाती है; और अनुशासन एक प्रमुख विचार को सौंप दो, तब तुम विश्वास कर सकते हो कि तुम्हारी वह कामना पूरी होगी। 
 कोई संत भला संत कैसे हो सकता है जब तक वह अपने मन की वृति को संत-पद के अयोग्य हर कामना से तथा हर विचार से मुक्त न कर दे, और फिर एक अडिग संकल्प के द्वारा उसे अन्य सभी लक्ष्यों को छोड़ केवल संत-पद की प्राप्ति के लिये यत्नशील रहने का निर्देश न दे? 
मैं कहता हूँ कि आदम के समय से लेकर आज तक की हर पवित्र कामना, हर पवित्र विचार, हर पवित्र संकल्प उस मनुष्य की सहायता के लिये चला आयेगा जिसने संत-पद प्राप्त करने का ऐसा दृढ़ निश्चय कर लिया हो। क्योंकि सदा ऐसा होता आया है कि पानी, चाहे वह कहीं भी हो, समुद्र की खोज करता है जैसे प्रकाश की किरने सूर्य को खोजती हैं। 
 कोई हत्यारा अपनी योजनाएँ कैसे पूरी करता है? वह कवल अपने रक्त को उत्तेजित उसमे ह्त्या के लिये एक उन्माद-भरी प्यास पैदा करता है, उसके कण-कण को हत्यापूर्ण विचारों के कोड़ों की मार से एकत्र करता है, और फिर निष्ठुर संकल्प से उसे घातक बार करने का आदेश देता है। 
 मैं तुमसे कहता हूँ कि केन* से लेकर आज तक का हर हत्यारा बिना बुलाये उस मनुष्य की भुज को सबल और स्थिर बनाने के लिये दौड़ा आयेगा जिस पर ह्त्या का ऐसा नशा सवार हो। क्योंकि सदा ऐसा होता आया है कि कौए, कौओं का साथ देते हैं और लकड़ बग्घे लकड़-बग्घों का। 
 इसलिये प्रार्थना करना अपने अंदर एक ही प्रमुख कामना का, एक ही प्रमुख विचार का, एक ही प्रमुख संकल्प का संचार करना है। यह अपने आप को इस तरह सुर में कि जिस वस्तु के लिये भी तुम प्रार्थना करो, उसके साथ पूरी तरह एक-सुर, एक-ताल हो जाओ। 
इस ग्रह का वातावरण, जो अपने सम्पूर्ण रूप में तुम्हारे ह्रदय में प्रतिबिम्बित है, उन सब बातों की आवारा स्मृतियों से तरंगित है जिन्हें उसने अपने जन्म से देखा है। 
 कोई वचन या कर्म; कोई इक्षा या निःश्वास; कोई क्षणिक विचार या अस्थाई सपना; मनुष्य या पशु का कोई श्वास; कोई परछाईं; कोई भ्रम ऐसा नहीं जो आज के दिन तक अपने-अपने रहस्यमय रास्ते पर न चलता रहा हो, और समय के अंत तक इसी प्रकार उस पर चलते न रहना हो। उनमे से किसी एक के साथ भी तुम अपने ह्रदय का सुर मिला लो, और वह निश्चय ही उसके तारों पर धुन बजाने के लिय तेजी से दौड़ा आयेगा। 
 प्रार्थना करने के लिए तुम्हे किसी होंठ या जिव्हा की आवश्यकता नहीं। बल्कि आवश्यकता है एक मौन, सचेत ह्रदय की, एक प्रमुख कामना की, एक प्रमुख विचार की, और सबसे बढ़कर, एक प्रमुख संकल्प की जो न संदेह करता है न संकोच। क्योंकि शब्द व्यर्थ हैं यदि प्रत्येक अक्षर में ह्रदय अपनी पूर्ण जागरूकता के साथ उपस्थित न हो। और जब ह्रदय उपस्थित और सजग है, तो जिव्हा के लिये यह बेहतर होगा कि वह सो जाये, या मुहरबन्द होंठों के पीछे छिप जाये। 
 न ही प्रार्थना करने के लिये तुम्हें मन्दिरों की आवश्यकता है। 
 जो कोई अपने ह्रदय में मन्दिर को नहीं पा सकता, वह किसी भी मन्दिर में अपने ह्रदय को नहीं पा सकता। 
 फिर भी मैं तुमसे यह सब कहता हूँ, और जो तुम जैसे हैं उनसे भी, किन्तु प्रत्येक मनुष्य से नहीं, क्योंकि अधिकाँश लोग अभी भ्रम में हैं। वे प्रार्थना की जरुरत तो महसूस करते हैं, लेकिन प्रार्थना करने का ढंग नहीं जानते। वे शब्दों के बिना प्रार्थना कर नहीं सकते, और शब्द उन्हें मिलते नहीं जब तक शब्द उनके मुँह में न डाल दिये जायें। और जब उन्हें अपने ह्रदय की विशालता में विचरण करना पड़ता है तो वे खो जाते हैं, और भयभीत हो जाते हैं; परन्तु मंदिरों की दीवारों के अंदर और अपने जैसे प्राणियों के झुंडों के बीच उन्हें सांत्वना और सुख मिलता है। 
कर लेने दो उन्हें अपने मंदिरों का निर्माण। कर लेने दो उन्हें अपनी प्रार्थनाएँ। 
 किन्तु तुम्हें तथा प्रत्येक मनुष्य को दिव्य ज्ञान के लिये प्रार्थना करने का आदेश देता हूँ। उसके सिवाय अन्य किसी वस्तु की चाह रखने का अर्थ है कभी तृप्त न होना। 
 याद रखो, जीवन की कुंजी '' सिरजनहार शब्द'' है। ' सिरजनहार शब्द' की कुंजी प्रेम है। प्रेम की कुंजी दिव्य ज्ञान है। अपने ह्रदय को इनसे भर लो, और बचा लो अपनी जिव्हा को अनेक शब्दों की पीड़ा से, और रक्षा कर लो अपनी बुद्धि का अनेक प्रार्थनाओं के बोझ से, और मुक्त कर लो अपने ह्रदय को सब देवताओं की दासता से जो तुम्हे उपहार देकर अपना दास बना लेना चाहते हैं; जो तुम्हें एक हाथ से केवल इसलिए सहलाते हैं कि दूसरे हाथ से तुम पर बार का सकें; जो तुम्हारे द्वारा प्रशंसा किये जाने पर संतुष्ट और कृपालु होते हैं, किन्तु तुम्हारे द्वारा कोसे जाने पर क्रोध और बदले की भावना से भर जाते हैं; जो तब तक तुम्हारी बात नहीं सुनते जब तक तुम उन्हें पुकारते नहीं; और तब तक तुम्हे देकर बहुधा देने पर पछताते हैं; जिनके लिये तुम्हारे आँसू अगरबत्ती हैं, जिनकी शान तुम्हारी दयनीयता में है। 
 हाँ,अपने ह्रदय को इन सब देवताओं से मुक्त कर लो, ताकि तुम्हें उसमे वह एकमात्र प्रभु मिल सके जो तुम्हें अपने आप से भर देता है चाहता है की तुम सदैव भरे रहो।
 बैनून: कभी तुम मनुष्य को सर्वशक्तिमान कहते हो तो कभी उसे लावारिस कहकर तुच्छ बताते हो। लगता है तुम हमें धुन्ध में लाकर छोड़ रहे हो। 
 क्रमशः........
अध्याय ………. १३ ………. तेरह
~~~~~~~~~~ प्रार्थना ~~~~~~~~~
मीरदाद: तुम व्यर्थ में प्रार्थना करते हो जब तुम अपने आप को छोड़ देवताओं को सम्बोधित करते हो।
क्योकि तुम्हारे अंदर है आकर्षित करने की शक्ति, जैसे दूर भगाने की की शक्ति तुम्हारे अंदर है।
और तुम्हारे अंदर हैं वे वस्तुएँ जिन्हें तुम आकर्षित करना चाहते हो, जैसे वे वस्तुएँ जिन्हें तुम दूर भगाना चाहते हो तुम्हारे अंदर हैं।
क्योंकि किसी वस्तु को लेने का सामर्थ्य रखना उसे देने का सामर्थ्य रखना भी है।
जहां भूख है, वहां भोजन है। जहां भोजन है, वहां भूख भी अवश्य होगी। भूख की पीड़ा से व्यथित होना तृप्त होने का आनंद लेने का सामर्थ्य रखना है।
हाँ, आवश्यकता में ही आवश्यकता की पूर्ति है।
क्या चाबी ताले के प्रयोग का अधिकार नहीं देती? क्या ताला चाबी के प्रयोग का अधिकार नहीं देती ? क्या ताला और चाबी दोनॉ दरवाजे के प्रयोग का अधिकार नहीं देते ?
जब भी तुम चाबी गँवा बैठो या उसे कहीं रखकर भूल जाओ, तो लोहार से आग्रह करने के लिये उतावले मत होओं। लोहार ने अपना काम कर दिया है, और अच्छी तरह से कर दिया है; उसे वही काम बार-बार करने के लिये मत कहो। तुम अपना काम करो और लोहार को अकेला छोड़ दो; क्योंकि जब एक बार वह तुमसे निपट चूका है, उसे और भी काम करने हैं। अपनी स्मृति में से दुर्गन्ध और कचरा निकाल फेंको, और चाबी तुम्हे निश्चय ही मिल जायेगी|
अकथ प्रभु ने उच्चारण द्वारा जब तुम्हे रचा तो तुम्हारे रूप में उसने अपनी ही रचना की। इस प्रकार तुम भी अकथ हो।
प्रभु ने तुम्हे अपना कोई अंश प्रदान नहीं किया--क्योंकि वह अंशों में नहीं बाँट सकता; उसने तो अपना समग्र, अविभाज्य, अकथ ईश्वरत्व ही तुम सबको प्रदान कर दिया। इससे बड़ी किस विरासत की कामना कर सकते हो तुम ? और तुम्हारी अपनी कायरता का अन्धेपन के सिवाय और कौन, या क्या, तुम्हे पाने से रोक सकता हैं ?
फिर भी, कुछ--अन्धे कृतध्न लोग--अपनी विरासत के लिये कृतज्ञं होने के बजाय, उसे प्राप्त करने की राह खोजने के बजाय, प्रभु एक प्रकार का कूडाघर बना देते हैं जिसने वे अपने दांत और पेट के दर्द, व्यापार में अपने घाटे, अपने झगडे, अपनी बदले की भावनाएं तथा अपनी निद्राहीन रातें ले जाकर फेंक सकें।
कुछ अन्य लोग प्रभु को अपना निजी कोष बना लेना चाहते हैं जहां से वे जब चाहें संसार की चमकदार निकम्मी वस्तुओं में से हर ऐसी वस्तु को पाने की आशा रखते हैं जिसके लिए वे तरस रहे हैं।
कुछ अन्य लोग प्रभु को एक प्रकार का निजी मुनीम बना लेना चाहते हैं, जोकेवल यह हिसाब ही न रखे कि वे किन चीजों के लिये दूसरों के कर्जदार हैं और किन चीजों के लिये उनके कर्जदार है, बल्कि उनके दिये कर्ज को वसूल भी करे और उनके उनके खाते में हमेशा एक बड़ी रकम जमा दिखाये।
हाँ, अनेक तथा नाना प्रकार के हैं वे काम जो मनुष्य प्रभु को सौंप देता है। फिर भी बहुत थोड़े लोग ऐसे होंगे जो सोचते हों कि यदि सचमुच इतने सारे काम करने की जिम्मेदारी प्रभु पर है तो वह अकेला ही उनको निपटा लेगा, और उसे यह आवश्यकता नहीं होगी कि कोई उसे प्रेरित करता रहे या अपने कामों की याद दिलाता रहे।
क्या प्रभु को तुम उन घड़ियों की याद दिलाते हो जब सूर्य उदय होना है और जब चन्द्र को अस्त ?
क्या उसे तुम दूर के खेत में पड़े अनाज के उस दाने की याद दिलाते हो जिसमे जीवन फूट रहा है ?
क्या उसे तुम उस मकडी की याद दिलाते हो जो रेशे से अपना कौशल-पूर्ण विश्राम-गृह बना रही है ?
क्या उसे तुम घोंसले में पड़े गौरेया के छोटे-छोटे बच्चों की याद दिलाते हो ?
क्या तुम उसे उन अनगिनत वस्तुओं की याद दिलाते हो जिनसे यह असीम ब्रह्माण्ड भरा हुआ है ?
तुम अपने तुच्छ व्यक्तित्व को अपनी समस्त अर्थहीन आवश्यकताओं सहित बार-बार उसकी स्मृति पर क्यों लादते हो ? क्या तुम उसकी दृष्टि में गौरेया, अनाज और मकड़ी की तुलना में कम कृपा के पात्र हो ? तुम उनकी तरह अपने उपहार स्वीकार क्यों नहीं करते और बिना शोर मचाये, बिना बिना घुटने टेके,बिना हाथ फैलाये और बिना चिंता-पूर्वक भविष्य में झाँके अपना-अपना काम क्यों नहीं करते ?
और प्रभु दूर कहाँ है कि उसके कानों तक अपनी सनकों और मिथ्याभिमानों को, अपनी स्तुतियों और अपनी फरियादों को पहुँचाने के लिये तुम्हे चिल्लाना पड़े ? क्या वह तुम्हारे अंदर और तुम्हारे चारों ओर नहीं है ? जितनी तुम्हारी जिव्हा तुम्हारे तालू के निकट है, क्या उसका कान तुम्हारे मुँह के उससे कहीं अधिक निकट नहीं है ?
प्रभु के लिये तो उसका ईश्वरत्व ही काफी है जिसका बीज उसने तुम्हारे अंदर रख दिया है।
यदि अपने ईश्वरत्व का बीज तुम्हे देकर तुम्हारे बजाय प्रभु को ही उसका ध्यान रखना होता तो तुममे क्या खूबी होती ? और जीवन में तुम्हारे करने के लिये क्या होता ? और यदि तुम्हारे करने को कुछ भी नहीं है, बल्कि प्रभु को ही तुम्हारी खातिर सब करना है, तो तुम्हारे जीवन का क्या महत्व है ? तुम्हारी सारी प्रार्थना से क्या लाभ है ?
अपनी अनगिनत चिंताएँ और आशाएँ प्रभु के पास मत ले जाओ। जिन दरवाजों की चाबियाँ उसने तुम्हे सौंप दी है, उन्हें तुम्हारी खातिर खोलने के लिये मिन्नतें मत करो। बल्कि अपने ह्रदय की विशालता में खोजो। क्योंकि ह्रदय की विशालता में मिलती है हर दरवाजे की चाबी। और ह्रदय की विशालता में मौजूद हैं वे सब चीजें जिनकी तुम्हे भूख और प्यास है, चाहे उनका सम्बन्ध बुराई से है या भलाई से।
तुम्हारे छोटे से छोटे आदेश का पालन करने को तैयार एक विशाल सेना तुम्हारे इशारे पर काम करने के लिये तैनात कर दी गयी है। यदि वह अच्छी तरह से सज्जित हो, उसे कुशलतापूर्वक शिक्षण दिया गया हो और निडरता पूर्वक उसका संचालन किया गया हो, तो उसके लिये कुछ भी करना असम्भव नहीं, और कोई भी बाधा उसे अपनी मंजिल पर पहुँचने से रोक नहीं सकती। और यदि वह पूरी तरह सज्जित न हो, उसे उचित शिक्षण न दिया गया हो और उसका सञ्चालन साहसहीन हो, तो वह दिशाहीन भटकती रहती है, या छोटी से छोटी बाधा के सामने मोरचा छोड़ देती है, और उसके पीछे-पीछे चली आती है शर्मनाक पराजय।
वह सेना और कोई नहीं, सधुओ, इस समय तुम्हारी रगों में चुपचाप चक्कर लगा रही सूक्ष्म लाल कणिकाएँ हैं; उनमे से हरएक शक्ति का चमत्कार, हरएक तुम्हारे समूचे जीवन का और समस्त जीवन का--उनकी अन्तरतम सूक्ष्मताओं सहित--पूरा और सच्चा विवरण।
ह्रदय में एकत्रित होती है यह सेना; ह्रदय में से ही बाहर निकलकर यह मोरचा लगाती है। इसी कारण ह्रदय को इतनी ख्याति और इतना सम्मान प्राप्त है। तुम्हारे सुख और दुःख के आँसू इसी में से फूटकर बाहर निकलते हैं। तुम्हारे जीवन और मृत्यु के भय दौड़कर इसी के अन्दर घुसते हैं।
तुम्हारी लालसाएँ और कामनाएँ इस सेना के उपकरण हैं तुम्हारी बुद्धि इसे अनुशासन में रखती है। तुम्हारा संकल्प इससे कवायद करवाता है और इसकी बागडोर संभालता है ।
जब तुम अपने रक्त को एक प्रमुख कामना से सज्जित कर लो जो सब कामनाओं को चुप कर देती है और उन पर छा जाती है; और अनुशासन एक प्रमुख विचार को सौंप दो, तब तुम विश्वास कर सकते हो कि तुम्हारी वह कामना पूरी होगी।
कोई संत भला संत कैसे हो सकता है जब तक वह अपने मन की वृति को संत-पद के अयोग्य हर कामना से तथा हर विचार से मुक्त न कर दे, और फिर एक अडिग संकल्प के द्वारा उसे अन्य सभी लक्ष्यों को छोड़ केवल संत-पद की प्राप्ति के लिये यत्नशील रहने का निर्देश न दे?
मैं कहता हूँ कि आदम के समय से लेकर आज तक की हर पवित्र कामना, हर पवित्र विचार, हर पवित्र संकल्प उस मनुष्य की सहायता के लिये चला आयेगा जिसने संत-पद प्राप्त करने का ऐसा दृढ़ निश्चय कर लिया हो। क्योंकि सदा ऐसा होता आया है कि पानी, चाहे वह कहीं भी हो, समुद्र की खोज करता है जैसे प्रकाश की किरने सूर्य को खोजती हैं।
कोई हत्यारा अपनी योजनाएँ कैसे पूरी करता है? वह कवल अपने रक्त को उत्तेजित उसमे ह्त्या के लिये एक उन्माद-भरी प्यास पैदा करता है, उसके कण-कण को हत्यापूर्ण विचारों के कोड़ों की मार से एकत्र करता है, और फिर निष्ठुर संकल्प से उसे घातक बार करने का आदेश देता है।
मैं तुमसे कहता हूँ कि केन* से लेकर आज तक का हर हत्यारा बिना बुलाये उस मनुष्य की भुज को सबल और स्थिर बनाने के लिये दौड़ा आयेगा जिस पर ह्त्या का ऐसा नशा सवार हो। क्योंकि सदा ऐसा होता आया है कि कौए, कौओं का साथ देते हैं और लकड़ बग्घे लकड़-बग्घों का।
इसलिये प्रार्थना करना अपने अंदर एक ही प्रमुख कामना का, एक ही प्रमुख विचार का, एक ही प्रमुख संकल्प का संचार करना है। यह अपने आप को इस तरह सुर में कि जिस वस्तु के लिये भी तुम प्रार्थना करो, उसके साथ पूरी तरह एक-सुर, एक-ताल हो जाओ।
इस ग्रह का वातावरण, जो अपने सम्पूर्ण रूप में तुम्हारे ह्रदय में प्रतिबिम्बित है, उन सब बातों की आवारा स्मृतियों से तरंगित है जिन्हें उसने अपने जन्म से देखा है।
कोई वचन या कर्म; कोई इक्षा या निःश्वास; कोई क्षणिक विचार या अस्थाई सपना; मनुष्य या पशु का कोई श्वास; कोई परछाईं; कोई भ्रम ऐसा नहीं जो आज के दिन तक अपने-अपने रहस्यमय रास्ते पर न चलता रहा हो, और समय के अंत तक इसी प्रकार उस पर चलते न रहना हो। उनमे से किसी एक के साथ भी तुम अपने ह्रदय का सुर मिला लो, और वह निश्चय ही उसके तारों पर धुन बजाने के लिय तेजी से दौड़ा आयेगा।
प्रार्थना करने के लिए तुम्हे किसी होंठ या जिव्हा की आवश्यकता नहीं। बल्कि आवश्यकता है एक मौन, सचेत ह्रदय की, एक प्रमुख कामना की, एक प्रमुख विचार की, और सबसे बढ़कर, एक प्रमुख संकल्प की जो न संदेह करता है न संकोच। क्योंकि शब्द व्यर्थ हैं यदि प्रत्येक अक्षर में ह्रदय अपनी पूर्ण जागरूकता के साथ उपस्थित न हो। और जब ह्रदय उपस्थित और सजग है, तो जिव्हा के लिये यह बेहतर होगा कि वह सो जाये, या मुहरबन्द होंठों के पीछे छिप जाये।
न ही प्रार्थना करने के लिये तुम्हें मन्दिरों की आवश्यकता है।
जो कोई अपने ह्रदय में मन्दिर को नहीं पा सकता, वह किसी भी मन्दिर में अपने ह्रदय को नहीं पा सकता।
फिर भी मैं तुमसे यह सब कहता हूँ, और जो तुम जैसे हैं उनसे भी, किन्तु प्रत्येक मनुष्य से नहीं, क्योंकि अधिकाँश लोग अभी भ्रम में हैं। वे प्रार्थना की जरुरत तो महसूस करते हैं, लेकिन प्रार्थना करने का ढंग नहीं जानते। वे शब्दों के बिना प्रार्थना कर नहीं सकते, और शब्द उन्हें मिलते नहीं जब तक शब्द उनके मुँह में न डाल दिये जायें। और जब उन्हें अपने ह्रदय की विशालता में विचरण करना पड़ता है तो वे खो जाते हैं, और भयभीत हो जाते हैं; परन्तु मंदिरों की दीवारों के अंदर और अपने जैसे प्राणियों के झुंडों के बीच उन्हें सांत्वना और सुख मिलता है।
कर लेने दो उन्हें अपने मंदिरों का निर्माण। कर लेने दो उन्हें अपनी प्रार्थनाएँ।
किन्तु तुम्हें तथा प्रत्येक मनुष्य को दिव्य ज्ञान के लिये प्रार्थना करने का आदेश देता हूँ। उसके सिवाय अन्य किसी वस्तु की चाह रखने का अर्थ है कभी तृप्त न होना।
याद रखो, जीवन की कुंजी '' सिरजनहार शब्द'' है। ' सिरजनहार शब्द' की कुंजी प्रेम है। प्रेम की कुंजी दिव्य ज्ञान है। अपने ह्रदय को इनसे भर लो, और बचा लो अपनी जिव्हा को अनेक शब्दों की पीड़ा से, और रक्षा कर लो अपनी बुद्धि का अनेक प्रार्थनाओं के बोझ से, और मुक्त कर लो अपने ह्रदय को सब देवताओं की दासता से जो तुम्हे उपहार देकर अपना दास बना लेना चाहते हैं; जो तुम्हें एक हाथ से केवल इसलिए सहलाते हैं कि दूसरे हाथ से तुम पर बार का सकें; जो तुम्हारे द्वारा प्रशंसा किये जाने पर संतुष्ट और कृपालु होते हैं, किन्तु तुम्हारे द्वारा कोसे जाने पर क्रोध और बदले की भावना से भर जाते हैं; जो तब तक तुम्हारी बात नहीं सुनते जब तक तुम उन्हें पुकारते नहीं; और तब तक तुम्हे देकर बहुधा देने पर पछताते हैं; जिनके लिये तुम्हारे आँसू अगरबत्ती हैं, जिनकी शान तुम्हारी दयनीयता में है।
हाँ,अपने ह्रदय को इन सब देवताओं से मुक्त कर लो, ताकि तुम्हें उसमे वह एकमात्र प्रभु मिल सके जो तुम्हें अपने आप से भर देता है चाहता है की तुम सदैव भरे रहो।
बैनून: कभी तुम मनुष्य को सर्वशक्तिमान कहते हो तो कभी उसे लावारिस कहकर तुच्छ बताते हो। लगता है तुम हमें धुन्ध में लाकर छोड़ रहे हो।